Aaj Phir Jeene Ki Tamanna Hai / कांटों से खिंच के ये आंचल, तोड के बंधन बांधी पायल

काँटों से खिंच के ये आँचल, तोड़ के बंधन बांधी पायल
कोई ना रोको दिल की उड़ान को, दिल वो चला
आज फिर जीने की तमन्ना है
आज फिर मरने का इरादा है

अपने ही बस में नहीं मैं, दिल है कही तो हूँ कही मैं
जाने क्या पा के मेरी जिन्दगी ने, हँस कर कहा

मैं हूँ गुबार या तूफां हूँ, कोई बताये मैं कहाँ हूँ
डर है सफ़र में कही खो न जाऊँ मैं, रस्ता नया

कल के अंधेरों से निकल के, देखा है आँखे मलते मलते
फूल ही फूल जिन्दगी बहार है, तय कर लिया

#DevAnand #WaheedaRehman

Aaj Phir Jeene Ki Tamanna Hai Lyrics

Kaanton se khinch ke ye anchal, tod ke bndhan baandhi paayal
Koi na roko dil ki udaan ko, dil wo chala
Aj fir jine ki tamanna hai
Aj fir marane ka iraada hai

Apane hi bas men nahin main, dil hai kahi to hun kahi main
Jaane kya pa ke meri jindagi ne, hns kar kaha

Main hun gubaar ya tufaan hun, koi bataaye main kahaan hun
Dar hai safr men kahi kho n jaaun main, rasta naya

Kal ke andheron se nikal ke, dekha hai ankhe malate malate
Ful hi ful jindagi bahaar hai, tay kar liya

  

Leave a comment

Your email address will not be published.