Aaj Tumse Door Hokar / आज तुमसे दूर होकर, ऐसे रोया मेरा प्यार

आज तुमसे दूर होकर, ऐसे रोया मेरा प्यार
चांद रोया साथ मेरे, रात रोई बार बार

कुछ तुम्हारी बंदिशें हैं, कुछ हैं मेरे दायरे
जब मुक़द्दर ही बने दुश्मन तो कोई क्या करे
इस मुक़द्दर पर किसीका, क्या है आख़िर इख्तियार 

हर तमन्ना से जुदा मैं, हर खुशी से दूर हूं 
जी रहा हूं, क्योंकि जीने के लिए मजबूर हूं 
मुझको मरने भी ना देगा, ये तुम्हारा इंतज़ार 

#SimiGarewal

Aaj Tumse Door Hokar Lyrics

Aj tumase dur hokar, aise roya mera pyaar
Chaand roya saath mere, raat roi baar baar

Kuchh tumhaari bndishen hain, kuchh hain mere daayare
Jab mukddar hi bane dushman to koi kya kare
Is mukddar par kisika, kya hai akhir ikhtiyaar 

Har tamanna se juda main, har khushi se dur hun 
Ji raha hun, kyonki jine ke lie majabur hun 
Mujhako marane bhi na dega, ye tumhaara intazaar 

Leave a comment

Your email address will not be published.