Aakhri Geet Mohobbat Ka Suna / आखरी गीत मोहोब्बत का सुना तो चलूँ

आखरी गीत मोहोब्बत का सुना तो चलूँ 
मैं चला जाऊँगा दो अश्क बहा लूँ तो चलूँ 

आज वो दिन है के तू ने मुझे ठुकराया है
अपना अन्जाम इन आँखों को नजर आया है
वहशत-ए-दिल मैं जरा होश में आ लूँ तो चलूँ 

आज में गैर हूँ, कुछ दिन हुये मैं गैर ना था 
मेरी चाहत, मेरी उल्फ़त से तुझे बैर ना था 
मैं हूँ अब गैर यकीं दिल को दिला लूँ तो चलूँ  

तेरी दुनिया से मैं एक रोज़ चला जाऊँगा 
और गये वक़्त की मानिंद नहीं आऊँगा 
फिर ना आने की कसम आज मैं खा लूँ तो चलूँ 

#Dharmendra

Aakhri Geet Mohobbat Ka Suna Lyrics

Akhari git mohobbat ka suna to chalun 
Main chala jaaunga do ashk baha lun to chalun 

Aj wo din hai ke tu ne mujhe thhukaraaya hai
Apana anjaam in ankhon ko najar aya hai
Wahashat-e-dil main jara hosh men a lun to chalun 

Aj men gair hun, kuchh din huye main gair na tha 
Meri chaahat, meri ulft se tujhe bair na tha 
Main hun ab gair yakin dil ko dila lun to chalun  

Teri duniya se main ek roj chala jaaunga 
Aur gaye wakt ki maanind nahin aunga 
Fir na ane ki kasam aj main kha lun to chalun 

Leave a comment

Your email address will not be published.