Aap Yun Faaslon Se Guzarte Rahe / आप यूँ फासलों से गुजरते रहे, दिल पे कदमों की आवाज आती रही

आप यूँ फासलों से गुजरते रहे
दिल से कदमों की आवाज़ आती रही
आहटों से अंधेरे चमकते रहे
रात आती रही, रात जाती रही

गुनगुनाती रहीं मेरी तनहाईयाँ
दूर बजती रहीं कितनी शहनाईयां
ज़िन्दगी, ज़िन्दगी को बुलाती रही

कतरा कतरा पिघलता रहा आसमां
रूह की वादियों में ना जाने कहाँ
एक नदी दिलरुबा गीत गाती रही

आपकी गर्म बाहों में खो जायेंगे
आपकी नर्म ज़ानों पे सो जायेंगे
मुद्दतों रात नींदे चुराती रही

Aap Yun Faaslon Se Guzarte Rahe Lyrics

Ap yun faasalon se gujarate rahe
Dil se kadamon ki awaaj ati rahi
Ahaton se andhere chamakate rahe
Raat ati rahi, raat jaati rahi

Gunagunaati rahin meri tanahaaiyaan
Dur bajati rahin kitani shahanaaiyaan
Zindagi, zindagi ko bulaati rahi

Katara katara pighalata raha asamaan
Ruh ki waadiyon men na jaane kahaan
Ek nadi dilaruba git gaati rahi

Apaki garm baahon men kho jaayenge
Apaki narm zaanon pe so jaayenge
Muddaton raat ninde churaati rahi

Leave a comment

Your email address will not be published.