Aayat (Bajirao Mastani) / आयत

तुझे याद कर लिया है आयत की तरह 
कायम तू हो गयी है रिवायत की तरह 
मरने तलक रहेगी तू आदत की तरह
तुझे याद कर लिया है आयत की तरह 

ये तेरी और मेरी
मोहब्बत हयात है
हर लम्हा इसमें जीना
मुक़द्दर की बात है 

कहती है इश्क़ दुनिया जिसे मेरी जानेमन 
इस एक लफ्ज़ में ही छुपी कायनात है 

मेरी दिल की राहतों का तू ज़रिया बन गई है
तेरे इश्क़ की मेरे दिल में कई ईद मन गई है 
तेरा ज़िक्र हो रहा है इबादत की तरह

Aayat (Bajirao Mastani) Lyrics

Tujhe yaad kar liya hai ayat ki tarah 
Kaayam tu ho gayi hai riwaayat ki tarah 
Marane talak rahegi tu adat ki tarah
Tujhe yaad kar liya hai ayat ki tarah 

Ye teri aur meri
Mohabbat hayaat hai
Har lamha isamen jina
Muqaddar ki baat hai 

Kahati hai ishq duniya jise meri jaaneman 
Is ek lafz men hi chhupi kaayanaat hai 

Meri dil ki raahaton ka tu zariya ban gi hai
Tere ishq ki mere dil men ki id man gi hai 
Tera zikr ho raha hai ibaadat ki taraha

Leave a comment

Your email address will not be published.