Ab Main Rashan Ki Qataron Mein / अब मैं राशन के कतारों में नज़र आता हूँ

अब मैं राशन के कतारों में नज़र आता हूँ 
अपने खेतों से बिछड़ने की सज़ा पाता हूँ 

इतनी महंगाई के बाज़ार से कुछ लाता हूँ 
अपने बच्चों में उसे बाँट के शरमाता हूँ

अपनी नींदों का लहू पोंछने की कोशिश में
जागते जागते थक जाता हूँ, सो जाता हूँ

कोई चादर समझ के खींच ना ले फिर से ख़लील
मैं कफ़न ओढ़ के फुटपाथ पे सो जाता हूँ 

Ab Main Rashan Ki Qataron Mein Lyrics

Ab main raashan ke kataaron men nazar ata hun 
Apane kheton se bichhadane ki saza paata hun 

Itani mahngaai ke baazaar se kuchh laata hun 
Apane bachchon men use baant ke sharamaata hun

Apani nindon ka lahu ponchhane ki koshish men
Jaagate jaagate thak jaata hun, so jaata hun

Koi chaadar samajh ke khinch na le fir se khalil
Main kafan oढ़ ke futapaath pe so jaata hun 

Leave a comment

Your email address will not be published.