Ae Mere Humsafar / ऐ मेरे हमसफर ले रोक अपनी नज़र

ऐ मेरे हमसफर 
ले रोक अपनी नज़र
ना देख इस कदर 
ये दिल है बड़ा बेसबर

चाँद तारों से पूछ ले
या किनारों से पूछ ले
दिल के मारों से पूछ ले
क्या हो रहा है असर

मुस्कुराती है चाँदनी
छा जाती है ख़ामोशी
गुनगुनाती है ज़िन्दगी
ऐसे में हो कैसे गुज़र

Ae Mere Humsafar Lyrics

Ai mere hamasafar 
Le rok apani nazar
Na dekh is kadar 
Ye dil hai bada besabar

Chaand taaron se puchh le
Ya kinaaron se puchh le
Dil ke maaron se puchh le
Kya ho raha hai asar

Muskuraati hai chaandani
Chha jaati hai khaamoshi
Gunagunaati hai zindagi
Aise men ho kaise guzar

Leave a comment

Your email address will not be published.