Afsana Likh Rahi Hoon / अफसाना लिख रही हूँ दिल-ए-बेकरार का

अफ़साना लिख रही हूँ दिल-ए-बेकरार का
आँखों में रंग भर के तेरे इंतजार का

जब तू नहीं तो कुछ भी नहीं है बहार में
जी चाहता है मुँह भी ना देखूँ बहार का

हासिल हैं यूँ तो मुझको ज़माने की दौलतें
लेकिन नसीब लाई हूँ एक सोग़वार का

आजा के अब तो आँख में आँसू भी आ गये
साग़र छलक उठा मेरे सब्र-ओ-करार का

#MunawarSultana

Afsana Likh Rahi Hoon Lyrics

Afsaana likh rahi hun dil-e-bekaraar ka
Ankhon men rng bhar ke tere intajaar ka

Jab tu nahin to kuchh bhi nahin hai bahaar men
Ji chaahata hai munh bhi na dekhun bahaar ka

Haasil hain yun to mujhako zamaane ki daulaten
Lekin nasib laai hun ek sogawaar ka

Aja ke ab to ankh men ansu bhi a gaye
Saagar chhalak uthha mere sabr-o-karaar ka

Leave a comment

Your email address will not be published.