Agar Mujh Se Mohabbat Hai / अगर मुझ से मोहब्बत है, मुझे सब अपने गम दे दो

अगर मुझसे मोहब्बत है, मुझे सब अपने ग़म दे दो
इन आँखों का हर एक आँसू, मुझे मेरी कसम दे दो

तुम्हारे ग़म को अपना ग़म बना लूँ तो करार आए
तुम्हारा दर्द सीने में छूपा लूँ तो करार आए
वो हर शय जो, तुम्हे दुःख दे, मुझे मेरे सनम दे दो

शरीक-ए-जिन्दगी को क्यों शरीक-ए-ग़म नहीं करते
दुखों को बाटकर क्यों इन दुखों को कम नहीं करते
तड़प इस दिल की थोड़ी सी मुझे मेरे सनम दे दो

इन आँखों में ना अब मुझको कभी आँसू नजर आए
सदा हँसती रहे आँखे, सदा ये होंठ मुसकाये
मुझे अपनी सभी आहे, सभी दर्द-ओ-आलम दे दो

#Supriya #Dharmendra

Agar Mujh Se Mohabbat Hai Lyrics

Agar mujhase mohabbat hai, mujhe sab apane gam de do
In ankhon ka har ek ansu, mujhe meri kasam de do

Tumhaare gam ko apana gam bana lun to karaar ae
Tumhaara dard sine men chhupa lun to karaar ae
Wo har shay jo, tumhe duhkh de, mujhe mere sanam de do

Sharik-e-jindagi ko kyon sharik-e-gam nahin karate
Dukhon ko baatakar kyon in dukhon ko kam nahin karate
Tadp is dil ki thodi si mujhe mere sanam de do

In ankhon men na ab mujhako kabhi ansu najar ae
Sada hnsati rahe ankhe, sada ye honthh musakaaye
Mujhe apani sabhi ahe, sabhi dard-o-alam de do

 

Leave a comment

Your email address will not be published.