Agar Tum Mil Jao / अगर तुम मिल जाओ, जमाना छोड देंगे हम

अगर तुम मिल जाओ, जमाना छोड देंगे हम
तुम्हें पा कर जमाने भर से रिश्ता तोड देंगे हम

बिना तेरे कोई दिलकश नजारा हम ना देखेंगे
तुम्हें ना हो पसंद उस को दोबारा हम ना देखेंगे
तेरी सूरत ना हो जिस में, वो शिशा तोड देंगे हम

तेरे दिल में रहेंगे, तुझ को अपना घर बना लेंगे
तेरे ख्वाबों को गहनों की तरह खुद पर सजा लेंगे
कसम तेरी कसम तकदीर का रूख मोड देंगे हम

तुम्हें हम अपने जिस्म-ओ-जान में कुछ ऐसे बसा लेंगे
तेरी खुशबू अपने जिस्म की खुशबू बना लेंगे
खुदा से भी ना जो टूटे वो रिश्ता जोड लेंगे हम

Agar Tum Mil Jao Lyrics

Agar tum mil jaao, jamaana chhod denge ham
Tumhen pa kar jamaane bhar se rishta tod denge ham
Bina tere koi dilakash najaara ham na dekhenge
Tumhen na ho pasnd us ko dobaara ham na dekhenge
Teri surat na ho jis men, wo shisha tod denge ham
Tere dil men rahenge, tujh ko apana ghar bana lenge
Tere khwaabon ko gahanon ki tarah khud par saja lenge
Kasam teri kasam takadir ka rukh mod denge ham
Tumhen ham apane jism-o-jaan men kuchh aise basa lenge
Teri khushabu apane jism ki khushabu bana lenge
Khuda se bhi na jo tute wo rishta jod lenge ham

Leave a comment

Your email address will not be published.