Apna Gham Leke Kahin / अपना ग़म लेके कहीं और ना जाया जाये

अपना ग़म लेके कहीं और ना जाया जाये 
घर में बिख़री हुई चीज़ों को सजाया जाये 

जिन चिरागों को हवाओं का कोई ख़ौफ़ नहीं 
उन चिरागों को हवाओं से बचाया जाये 

बाग में जाने के आदाब हुआ करते हैं 
किसी तितली को न फूलों से उड़ाया जाये 

घर से मस्ज़िद है बहोत दूर चलो यूँ कर ले 
किसी रोते हुये बच्चे को हँसाया जाये 

#Ghazal

Apna Gham Leke Kahin Lyrics

Apana gam leke kahin aur na jaaya jaaye 
Ghar men bikhari hui chizon ko sajaaya jaaye 

Jin chiraagon ko hawaaon ka koi khauf nahin 
Un chiraagon ko hawaaon se bachaaya jaaye 

Baag men jaane ke adaab hua karate hain 
Kisi titali ko n fulon se udaaya jaaye 

Ghar se maszid hai bahot dur chalo yun kar le 
Kisi rote huye bachche ko hnsaaya jaaye 

Leave a comment

Your email address will not be published.