Apni Aag Ko Zinda Rakhna / अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है

अपनी आग को ज़िंदा रखना कितना मुश्किल है
पत्थर बीच आईना रखना कितना मुश्किल है

कितना आसान है तस्वीर बनाना औरों की
ख़ुद को पस-ए-आईना रखना कितना मुश्किल है

तुमने मंदिर देखे होंगे ये मेरा आँगन है
एक दीया भी जलता रखना कितना मुश्किल है

चुल्लू में हो दर्द का दरिया ध्यान में उसके होंठ
यूँ भी खुद को प्यासा रखना कितना मुश्किल है

Apni Aag Ko Zinda Rakhna Lyrics

Apani ag ko jinda rakhana kitana mushkil hai
Patthar bich aina rakhana kitana mushkil hai

Kitana asaan hai taswir banaana auron ki
Khud ko pas-e-aina rakhana kitana mushkil hai

Tumane mndir dekhe honge ye mera angan hai
Ek diya bhi jalata rakhana kitana mushkil hai

Chullu men ho dard ka dariya dhyaan men usake honthh
Yun bhi khud ko pyaasa rakhana kitana mushkil hai

Leave a comment

Your email address will not be published.