Apni Aankhon Ke Samandar Mein / अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे

अपनी आँखों के समंदर में उतर जाने दे
तेरा मुजरिम हूँ मुझे डूब के मर जाने दे

ऐ नए दोस्त मैं समझूँगा तुझे भी अपना
पहले माज़ी का कोई ज़ख़्म तो भर जाने दे

आग दुनिया की लगाई हुई बुझ जाएगी
कोई आँसू मेरे दामन पे बिखर जाने दे

ज़ख़्म कितने तेरी चाहत से मिले हैं मुझको
सोचता हूँ कि कहूँ तुझसे मगर जाने दे

Apni Aankhon Ke Samandar Mein Lyrics

Apani ankhon ke samndar men utar jaane de
Tera mujarim hun mujhe dub ke mar jaane de

Ai ne dost main samajhunga tujhe bhi apana
Pahale maazi ka koi zakhm to bhar jaane de

Ag duniya ki lagaai hui bujh jaaegi
Koi ansu mere daaman pe bikhar jaane de

Zakhm kitane teri chaahat se mile hain mujhako
Sochata hun ki kahun tujhase magar jaane de

Leave a comment

Your email address will not be published.