Apni Dhun Mein Rehta Hoon / अपनी धुन में रहता हूँ

अपनी धुन में रहता हूँ 
में भी तेरे जैसा हूँ 

ओ पिछली रुत के साथी 
अब के बरस मैं तनहा हूँ

तेरी गली में सारा दिन 
दुख के कंकर चुनता हूँ

मेरा दिया जलाए कौन 
मैं तेरा खाली कमरा हूँ

तेरे सिवा मुझे पहने कौन 
मैं तेरे तन का कपड़ा हूँ 

अपनी लहर है अपना रोग 
दरिया हूँ और प्यासा हूँ 

आती रुत मुझे रोएगी 
जाती रुत का झोंका हूँ

Apni Dhun Mein Rehta Hoon Lyrics

Apani dhun men rahata hun 
Men bhi tere jaisa hun 

O pichhali rut ke saathi 
Ab ke baras main tanaha hun

Teri gali men saara din 
Dukh ke knkar chunata hun

Mera diya jalaae kaun 
Main tera khaali kamara hun

Tere siwa mujhe pahane kaun 
Main tere tan ka kapada hun 

Apani lahar hai apana rog 
Dariya hun aur pyaasa hun 

Ati rut mujhe roegi 
Jaati rut ka jhonka hun

Leave a comment

Your email address will not be published.