Aur Kya Ahad-E-Wafa Hote Hain (Asha) / और क्या अहद-ए-वफ़ा होते हैं

और क्या अहद-ए-वफ़ा होते हैं
लोग मिलते हैं, जुदा होते हैं

कब बिछड़ जाए हमसफ़र ही तो है
कब बदल जाए एक नज़र ही तो है
जान-ओ-दिल जिस पे फ़िदा होते हैं

बात निकली थी इस जमाने की
जिस को आदत है भूल जाने की
आप क्यों हम से खफ़ा होते हैं

जब रुला लेते हैं जी भर के हमें 
जब सता लेते हैं जी भर के हमें 
तब कहीं खुश वो ज़रा होते हैं

#SharmilaTagore #Dharmendra #RajKhosla
#tandemsong #twinsong

Aur Kya Ahad-E-Wafa Hote Hain (Asha) Lyrics

Aur kya ahad-e-wafa hote hain
Log milate hain, juda hote hain

Kab bichhad jaae hamasafar hi to hai
Kab badal jaae ek nazar hi to hai
Jaan-o-dil jis pe fida hote hain

Baat nikali thi is jamaane ki
Jis ko adat hai bhul jaane ki
Ap kyon ham se khafa hote hain

Jab rula lete hain ji bhar ke hamen 
Jab sata lete hain ji bhar ke hamen 
Tab kahin khush wo zara hote hain

  
 

Leave a comment

Your email address will not be published.