Baag Mein Kali Khili / बाग में कली खिली, बगिया महकी Lyrics in Hindi

बाग में कली खिली, बगिया महकी
पर हाय रे अभी इधर भँवरा नहीं आया
राह में नज़र बिछी बहकी, बहकी
और बेवजह घड़ी घड़ी ये दिल घबराया
हाय रे, क्यों ना आया, क्यों न आया, क्यों न आया

बैठे हैं हम तो अरमान जगाये 
सीने में लाखों तूफान छुपाये 
मत पूछो मन को कैसे मनाया

सपने जो आये तड़पा के जाये 
दिल की लगी को लहकाके जाये 
मुश्किल से हमने हर दिन बिताया

इक मीठी अगनी में जलता है तनमन
बात और बिगड़ी, बरसा जो सावन
बचपन गँवाके मैने सबकुछ गवाया

#Tanuja

Baag Mein Kali Khili Lyrics

Baag men kali khili, bagiya mahaki
Par haay re abhi idhar bhnwara nahin aya
Raah men najr bichhi bahaki, bahaki
Aur bewajah ghadi ghadi ye dil ghabaraaya
Haay re, kyon na aya, kyon n aya, kyon n aya

Baithhe hain ham to aramaan jagaaye 
Sine men laakhon tufaan chhupaaye 
Mat puchho man ko kaise manaaya

Sapane jo aye tadpa ke jaaye 
Dil ki lagi ko lahakaake jaaye 
Mushkil se hamane har din bitaaya

Ik mithhi agani men jalata hai tanaman
Baat aur bigadi, barasa jo saawan
Bachapan gnwaake maine sabakuchh gawaaya

Leave a comment

Your email address will not be published.