Babul Ka Ye Ghar Behna / बाबुल का ये घर बहना Lyrics in Hindi

बाबुल का ये घर बहना कुछ दिन का ठिकाना है 
बाबुल का ये घर गोरी कुछ दिन का ठिकाना है 
बन के दुल्हन एक दिन तुझे पिया घर जाना है 

बाबुल तेरे बगिया की मैं तो वो कली हूँ रे 
छोड़ तेरी बगिया मुझे घर पिया का सजाना है 

बेटी घर बाबुल के किसी और की अमानत है 
दस्तूर दुनिया का हम सबको निभाना है 

मैया तेरे आँचल की मैं हूँ एक गुड़िया रे 
तूने मुझे जनम दिया तेरा घर क्यों बेगाना है 

मैया पे क्या बीत रही बहना तू ये क्या जाने 
कलेजे के टुकड़े को रो रो के भुलाना है 

भैया तेरे अँगना की मैं हूँ ऐसी चिड़िया रे 
रात भर बसेरा है सुबह उड़ जाना है 

यादें तेरे बचपन की हम सबको रुलाएगी 
फिर भी तेरी डोली को कांधा तो लगाना है

#MithunChakraborty #PadminiKolhapure #PallaviJoshi

Babul Ka Ye Ghar Behna Lyrics

Baabul ka ye ghar bahana kuchh din ka thhikaana hai 
Baabul ka ye ghar gori kuchh din ka thhikaana hai 
Ban ke dulhan ek din tujhe piya ghar jaana hai 

Baabul tere bagiya ki main to wo kali hun re 
Chhod teri bagiya mujhe ghar piya ka sajaana hai 

Beti ghar baabul ke kisi aur ki amaanat hai 
Dastur duniya ka ham sabako nibhaana hai 

Maiya tere anchal ki main hun ek gudiya re 
Tune mujhe janam diya tera ghar kyon begaana hai 

Maiya pe kya bit rahi bahana tu ye kya jaane 
Kaleje ke tukade ko ro ro ke bhulaana hai 

Bhaiya tere angana ki main hun aisi chidiya re 
Raat bhar basera hai subah ud jaana hai 

Yaaden tere bachapan ki ham sabako rulaaegi 
Fir bhi teri doli ko kaandha to lagaana hai

   

Leave a comment

Your email address will not be published.