Bachche Man Ke Sachche / बच्चे मन के सच्चे Lyrics in Hindi

बच्चे मन के सच्चे, सारे जग की आँख के तारे
ये वो नन्हे फूल हैं जो भगवान को लगते प्यारे

खुद रूठें, खुद मन जाएँ, फिर हमजोली बन जाएँ
झगड़ा जिसके साथ करें, अगले ही पल फिर बात करें
इनको किसी से बैर नहीं, इनके लिए कोई ग़ैर नहीं
इनका भोलापन मिलता है सबको बाँह पसारे

इन्सां जब तक बच्चा है, तब तक समझो सच्चा है
ज्यों ज्यों उसकी उमर बढ़े, मन पर झूठ का मैल चढ़े
क्रोध बढ़े, नफ़रत घेरे, लालच की आदत घेरे
बचपन इन पापों से हटकर अपनी उमर गुज़ारे

तन कोमल मन सुन्दर है, बच्चे बड़ों से बेहतर हैं 
इनमें छूत और छात नहीं, झूठी जात और पात नहीं
भाषा की तक़रार नहीं, मज़हब की दीवार नहीं
इनकी नज़रों में एक हैं मन्दिर मस्जिद गुरुद्वारे

#NeetuSingh

Bachche Man Ke Sachche Lyrics

Bachche man ke sachche, saare jag ki ankh ke taare
Ye wo nanhe ful hain jo bhagawaan ko lagate pyaare

Khud ruthhen, khud man jaaen, fir hamajoli ban jaaen
Jhagada jisake saath karen, agale hi pal fir baat karen
Inako kisi se bair nahin, inake lie koi gair nahin
Inaka bholaapan milata hai sabako baanh pasaare

Insaan jab tak bachcha hai, tab tak samajho sachcha hai
Jyon jyon usaki umar baढ़e, man par jhuthh ka mail chaढ़e
Krodh baढ़e, nafarat ghere, laalach ki adat ghere
Bachapan in paapon se hatakar apani umar guzaare

Tan komal man sundar hai, bachche badon se behatar hain 
Inamen chhut aur chhaat nahin, jhuthhi jaat aur paat nahin
Bhaasha ki taqaraar nahin, mazahab ki diwaar nahin
Inaki nazaron men ek hain mandir masjid gurudwaare

Leave a comment

Your email address will not be published.