Bahe Na Kabhi Nain Se Neer / बहे न कभी नैन से नीर Lyrics in Hindi

बहे न कभी नैन से नीर 
उठी हो चाहे दिल में पीर 
बाँवरे यही प्रीत की रीत 

आशाएँ मिट जाएँ तो मिट जाएँ 
दिल की आहें कभी न बाहर आएं 
धरी हो होंठों पर मुस्कान 
न कोई ले दिल को पहचान
इसी में है रे तेरी जीत 

दीपक जले भवन में 
रहे पतंगा बन में 
प्रीत खींचकर लाई 
उसे जलाया क्षण में 
जलन का उसे कहाँ था होश 
प्यार का चढ़ा हुआ था जोश 
गा रही दुनिया जिसके गीत

#DevAnand

Bahe Na Kabhi Nain Se Neer Lyrics

Bahe n kabhi nain se nir 
Uthhi ho chaahe dil men pir 
Baanware yahi prit ki rit 

Ashaaen mit jaaen to mit jaaen 
Dil ki ahen kabhi n baahar aen 
Dhari ho honthhon par muskaan 
N koi le dil ko pahachaan
Isi men hai re teri jit 

Dipak jale bhawan men 
Rahe patnga ban men 
Prit khinchakar laai 
Use jalaaya kshan men 
Jalan ka use kahaan tha hosh 
Pyaar ka chaढ़a hua tha josh 
Ga rahi duniya jisake git

Leave a comment

Your email address will not be published.