Ban Ke Nazar Dil Ki Zubaan / बन के नज़र दिल की जुबां Lyrics in Hindi

बन के नज़र दिल की जुबां 
कहने लगी एक दास्तां

जाने कैसा है ये अफ़साना 
जाने कैसा आया ये ज़माना
अरे तू भी तो अन्जान है 
मैं भी तो अन्जान हूँ 
तू भी कुछ हैरान है
मैं भी तो हैरान हूँ 
न जाने क्या बातें हुईं तेरे मेरे दरमियां 

ऐसा लगता है ये सितारे
जैसे करते हैं कुछ इशारे 
अरे न आँखों में नींद है न दिल में क़रार है 
क्या हो जाए क्या पता कोई ऐतबार है 
एक ये उमर, दूजे ये रात उस पे सितम ये समाँ

#RajivKapoor #DivyaRana

Ban Ke Nazar Dil Ki Zubaan Lyrics

Ban ke nazar dil ki jubaan 
Kahane lagi ek daastaan

Jaane kaisa hai ye afasaana 
Jaane kaisa aya ye zamaana
Are tu bhi to anjaan hai 
Main bhi to anjaan hun 
Tu bhi kuchh hairaan hai
Main bhi to hairaan hun 
N jaane kya baaten huin tere mere daramiyaan 

Aisa lagata hai ye sitaare
Jaise karate hain kuchh ishaare 
Are n ankhon men nind hai n dil men qaraar hai 
Kya ho jaae kya pata koi aitabaar hai 
Ek ye umar, duje ye raat us pe sitam ye samaan

 

Leave a comment

Your email address will not be published.