Bol Meri Taqdeer Mein Kya Hai / बोल मेरी तकदीर में क्या है Lyrics in Hindi

बोल मेरी तकदीर में क्या है, मेरे हमसफ़र अब तो बता
जीवन के दो पहलू हैं, हरियाली और रास्ता
कहाँ है मेरे प्यार की मंज़िल, तू बतला तुझको है पता
जीवन के दो पहलू हैं, हरियाली और रास्ता

जहाँ हम आ के पहुचे हैं, वहाँ से लौट कर जाना
नहीं मुमकीन, मगर मुश्किल है दुनिया से भी टकराना
तेरे लिए हम कुछ भी सहेंगे, तेरा दर्द अब दर्द मेरा
जीवन के दो पहलू हैं, हरियाली और रास्ता

तुम्हारे ख्वाब से दिलकश नज़ारा और क्या होगा
के तुम मेरे सहारे हो, सहारा और क्या होगा
खुश हूँ तू जिस हाल में रखे, तेरी थी तेरी हूँ सदा
जीवन के दो पहलू हैं, हरियाली और रास्ता

मेरी रातो के पहले ख्वाब का तारा नहीं टूटा 
ये क्या कम है कभी मुझसे मेरा बचपन नहीं रूठा
आग और पानी एक है मुझको, दिल में है जब तक प्यार तेरा
जीवन के दो पहलू हैं, हरियाली और रास्ता

#ManojKumar #MalaSinha

Bol Meri Taqdeer Mein Kya Hai Lyrics

Bol meri takadir men kya hai, mere hamasafr ab to bata
Jiwan ke do pahalu hain, hariyaali aur raasta
Kahaan hai mere pyaar ki mnzil, tu batala tujhako hai pata
Jiwan ke do pahalu hain, hariyaali aur raasta

Jahaan ham a ke pahuche hain, wahaan se laut kar jaana
Nahin mumakin, magar mushkil hai duniya se bhi takaraana
Tere lie ham kuchh bhi sahenge, tera dard ab dard mera
Jiwan ke do pahalu hain, hariyaali aur raasta

Tumhaare khwaab se dilakash najaara aur kya hoga
Ke tum mere sahaare ho, sahaara aur kya hoga
Khush hun tu jis haal men rakhe, teri thi teri hun sada
Jiwan ke do pahalu hain, hariyaali aur raasta

Meri raato ke pahale khwaab ka taara nahin tuta 
Ye kya kam hai kabhi mujhase mera bachapan nahin ruthha
Ag aur paani ek hai mujhako, dil men hai jab tak pyaar tera
Jiwan ke do pahalu hain, hariyaali aur raasta

 

Leave a comment

Your email address will not be published.