Bol Meri Taqdeer Mein (Sad) / बोल मेरी तकदीर में क्या है, मेरे हमसफर अब तो बता Lyrics in Hindi

बोल मेरी तकदीर में क्या है, मेरे हमसफ़र अब तो बता
जीवन के दो पहलू हैं, हरियाली और रास्ता
कहाँ है मेरे प्यार की मंज़िल, तू बतला तुझ को है पता
जीवन के दो पहलू हैं, हरियाली और रास्ता

जहाँ हम आ के पहुचे हैं, वहाँ से लौटकर जाना
नहीं मुमकीन, मगर मुश्किल है दुनिया से भी टकराना
तेरे लिए हम कुछ भी सहेंगे, तेरा दर्द अब दर्द मेरा
जीवन के दो पहलू हैं, हरियाली और रास्ता

जहाँ जिस हाल में भी हूँ, रहेंगे हम तुम्हारे ही
नदी सागर से मिलती है, नहीं मिलते किनारे ही
अपना अपना हैं ये मुकद्दर, आज करे हम किस से गिला

#MalaSinha #ManojKumar #VijayBhatt

Bol Meri Taqdeer Mein (Sad) Lyrics

Bol meri takadir men kya hai, mere hamasafr ab to bata
Jiwan ke do pahalu hain, hariyaali aur raasta
Kahaan hai mere pyaar ki mnzil, tu batala tujh ko hai pata
Jiwan ke do pahalu hain, hariyaali aur raasta

Jahaan ham a ke pahuche hain, wahaan se lautakar jaana
Nahin mumakin, magar mushkil hai duniya se bhi takaraana
Tere lie ham kuchh bhi sahenge, tera dard ab dard mera
Jiwan ke do pahalu hain, hariyaali aur raasta

Jahaan jis haal men bhi hun, rahenge ham tumhaare hi
Nadi saagar se milati hai, nahin milate kinaare hi
Apana apana hain ye mukaddar, aj kare ham kis se gila 

  

Leave a comment

Your email address will not be published.