Chanchal Sheetal Nirmal Komal / चंचल, शीतल, निर्मल, कोमल Lyrics in Hindi

चंचल, शीतल, निर्मल, कोमल 
संगीत की देवी स्वर सजनी 
सुंदरता की हर प्रतिमा से
बढ़कर है तू सुन्दर सजनी 

कहते हैं जहाँ ना रवि पहुँचे 
कहते हैं वहाँ पर कवि पहुँचे 
तेरे रंग रूप की छाया तक न रवि पहुंचे न कवि पहुंचे 
मैं छूने लगूँ तू उड़ जाए, परियों से तेरे पर सजनी 

तेरे रसवंती हाथों का मैं गीत कोई बन जाऊँगा 
सरगम के फूलों से तेरे सपनों की सेज सजाऊंगा 
डोली में बैठ के आएगी, जब तू साजन के घर सजनी 

ऐसा लगता है, टूट गए सब तारें, टूटके सिमट गए 
गोरे गोरे एक चन्दा से रंगीन बदन पे लिपट गए 
बनकर नथ, कंगन, करधनिया, घुंघरू झुमके झूमर सजनी 

#ShashiKapoor #ZeenatAman #RajKapoor

Chanchal Sheetal Nirmal Komal Lyrics

Chnchal, shital, nirmal, komal 
Sngit ki dewi swar sajani 
Sundarata ki har pratima se
Badhkar hai tu sundar sajani 

Kahate hain jahaan na rawi pahunche 
Kahate hain wahaan par kawi pahunche 
Tere rng rup ki chhaaya tak n rawi pahunche n kawi pahunche 
Main chhune lagun tu ud jaae, pariyon se tere par sajani 

Tere rasawnti haathon ka main git koi ban jaaunga 
Saragam ke fulon se tere sapanon ki sej sajaaunga 
Doli men baithh ke aegi, jab tu saajan ke ghar sajani 

Aisa lagata hai, tut ge sab taaren, tutake simat ge 
Gore gore ek chanda se rngin badan pe lipat ge 
Banakar nath, kngan, karadhaniya, ghungharu jhumake jhumar sajani 

  

Leave a comment

Your email address will not be published.