Chand Sa Mukhda Kyun sharmaya / चाँद सा मुखड़ा क्यों शरमाया Lyrics in Hindi

नटखट तारों हमें ना निहारो, हमरी ये प्रीत नयी

चाँद सा मुखड़ा क्यों शर्माया
आँख मिली और दिल घबराया

झुक गये चंचल नैना एक झलकी दिखलाके 
बोलो गोरी क्या रखा है पलको में छुपाके 
तुझको रे साँवरिया तुझसे ही चुराके
नैनो में सजाया मैंने कजरा बनके
नींद चुराई तू ने दिल भी चुराया 

ये भीगे नज़ारे, करते हैं इशारे
मिलने की ये रुत है गोरी दिन हैं हमारे
सुन लो पिया प्यारे, क्या कहते हैं तारे
हमने तो बिछड़ते देखे कितनो के प्यारे
कभी ना अलग हुई काया से छाया 

#Madhubala #SunilDutt #ShaktiSamanta

Chand Sa Mukhda Kyun sharmaya Lyrics

Natakhat taaron hamen na nihaaro, hamari ye prit nayi

Chaand sa mukhada kyon sharmaaya
Ankh mili aur dil ghabaraaya

Jhuk gaye chnchal naina ek jhalaki dikhalaake 
Bolo gori kya rakha hai palako men chhupaake 
Tujhako re saanwariya tujhase hi churaake
Naino men sajaaya mainne kajara banake
Nind churaai tu ne dil bhi churaaya 

Ye bhige najaare, karate hain ishaare
Milane ki ye rut hai gori din hain hamaare
Sun lo piya pyaare, kya kahate hain taare
Hamane to bichhadate dekhe kitano ke pyaare
Kabhi na alag hui kaaya se chhaaya 

  

Leave a comment

Your email address will not be published.