Chanda Ko Dhoondhne Sabhi / चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े Lyrics in Hindi

चंदा को ढूँढने सभी तारे निकल पड़े
गलियों में वो नसिब के मारे निकल पड़े

उनकी नज़र क जिसने नज़ारा चुरा लिया
उनके दिलों का जिसने सहारा चुरा लिया
उस चोर की तलाश में सारे निकल पड़े

ग़म की अंधेरी रात में जलना पड़ा उन्हें 
फूलों के बदले काँटों पे चलना पडा उन्हें 
धरती पे जब गगन के दुलारे निकल पड़े

उनकी पुकार सुन के ये दिल डगमगा गया
हमको भी कोई बिछड़ा हुआ याद आ गया
भर आई आँख आँसू हमारे निकल पड़े

#Jeetendra #Tanuja

Chanda Ko Dhoondhne Sabhi Lyrics

Chnda ko dhundhane sabhi taare nikal pade
Galiyon men wo nasib ke maare nikal pade

Unaki nazar k jisane nazaara chura liya
Unake dilon ka jisane sahaara chura liya
Us chor ki talaash men saare nikal pade

Gam ki andheri raat men jalana pada unhen 
Fulon ke badale kaanton pe chalana pada unhen 
Dharati pe jab gagan ke dulaare nikal pade

Unaki pukaar sun ke ye dil dagamaga gaya
Hamako bhi koi bichhada hua yaad a gaya
Bhar ai ankh ansu hamaare nikal pade

 

Leave a comment

Your email address will not be published.