Chirag Dil Ka Jalao / चिराग दिल का जलाओ बहुत अंधेरा है Lyrics in Hindi

चिराग दिल का जलाओ बहुत अंधेरा है
कहीं से लौट के आओ बहुत अंधेरा है

कहाँ से लाऊँ वो रंगत गई बहारों की
तुम्हारे साथ गई रोशनी नज़ारों की 
मुझे भी पास बुलाओ बहुत अंधेरा है

सितारों तुमसे अंधेरे कहाँ सम्भलते हैं 
उन्हीं के नक़्श-ए-कदम से चिराग जलते हैं
उन्हीं को ढूँढ़ के लाओ बहुत अंधेरा है

#RajKhosla

Chirag Dil Ka Jalao Lyrics

Chiraag dil ka jalaao bahut andhera hai
Kahin se laut ke ao bahut andhera hai

Kahaan se laaun wo rngat gi bahaaron ki
Tumhaare saath gi roshani nazaaron ki 
Mujhe bhi paas bulaao bahut andhera hai

Sitaaron tumase andhere kahaan sambhalate hain 
Unhin ke naqsh-e-kadam se chiraag jalate hain
Unhin ko dhunढ़ ke laao bahut andhera hai

Leave a comment

Your email address will not be published.