Dard Ke Rishtey / दर्द के रिश्ते न कर डाले उसे बेकल कहीं Lyrics in Hindi

दर्द के रिश्ते न कर डाले उसे बेकल कहीं 
हो गई इस साल भी कुछ बस्तियां जल-थल कहीं 

रात की बेरंगीओं में हम बिछड़ जाए ना दोस्त 
हाथ मेरे हाथ में दे और यहाँ से चल कहीं

आज सूरज खुद ही अपने रौशनी में जल गया
कह रहा था राज़ की ये बात एक पागल कहीं

ये ख़बर होती तो करता कौन बारिश की दुआ
प्यास से हम मर गए रोता रहा बादल कहीं

#Nonfilmi #ghazal

Dard Ke Rishtey Lyrics

Dard ke rishte n kar daale use bekal kahin 
Ho gi is saal bhi kuchh bastiyaan jal-thal kahin 

Raat ki berngion men ham bichhad jaae na dost 
Haath mere haath men de aur yahaan se chal kahin

Aj suraj khud hi apane raushani men jal gaya
Kah raha tha raaz ki ye baat ek paagal kahin

Ye khabar hoti to karata kaun baarish ki dua
Pyaas se ham mar ge rota raha baadal kahin

 

Leave a comment

Your email address will not be published.