Dekh Lu Jo Nazar Bhar Ke / देख लूँ जो नजर भर के Lyrics in Hindi

देख लूँ जो नजर भर के 
घाट के तुम रहो ना घर के 
नशीले हैं नैना गुलाबी हैं डोरे
पिए है कभी तुमने ऐसे कटोरे 
देख लूँ जो नज़र भर के

यहाँ शायर भी आते रहते हैं 
मेरे चेहरे को चाँद कहते हैं 
मीठा चेहरा होंठ रसीले 
दूर से तरसे छैल छबीले
खिड़की नीचे शाम सवेरे 
करते हैं वो सौ-सौ फ़ेरे 
सारी दुनिया है मुझपे दीवानी 
मैं हूँ सारे दिलों की रानी
नशीले हैं नैना गुलाबी हैं डोरे
पिए है कभी तुमने ऐसे कटोरे
देख लूँ जो नजर भर के 
घाट के तुम रहो ना घर के

जिसको देखो वो आहें भरता है 
शहर का शहर मुझपे मरता है 
मुझपे कितने देते है जाँ 
कल तो चल गई चौक में छुरियां
ना मैं उसकी ना मैं इसकी
सब ये सोचे मैं हूँ किसकी 
एक तुम ही रहे अन्जाने 
मुझको तुम ही नहीं पहचाने
नशीले हैं नैना गुलाबी हैं डोरे
पिए है कभी तुमने ऐसे कटोरे
देख लूँ जो नजर भर के 
घाट के तुम रहो ना घर के

#KironKher #KalpanaLajmi

Dekh Lu Jo Nazar Bhar Ke Lyrics

Dekh lun jo najar bhar ke 
Ghaat ke tum raho na ghar ke 
Nashile hain naina gulaabi hain dore
Pie hai kabhi tumane aise katore 
Dekh lun jo nazar bhar ke

Yahaan shaayar bhi ate rahate hain 
Mere chehare ko chaand kahate hain 
Mithha chehara honthh rasile 
Dur se tarase chhail chhabile
Khidaki niche shaam sawere 
Karate hain wo sau-sau fere 
Saari duniya hai mujhape diwaani 
Main hun saare dilon ki raani
Nashile hain naina gulaabi hain dore
Pie hai kabhi tumane aise katore
Dekh lun jo najar bhar ke 
Ghaat ke tum raho na ghar ke

Jisako dekho wo ahen bharata hai 
Shahar ka shahar mujhape marata hai 
Mujhape kitane dete hai jaan 
Kal to chal gi chauk men chhuriyaan
Na main usaki na main isaki
Sab ye soche main hun kisaki 
Ek tum hi rahe anjaane 
Mujhako tum hi nahin pahachaane
Nashile hain naina gulaabi hain dore
Pie hai kabhi tumane aise katore
Dekh lun jo najar bhar ke 
Ghaat ke tum raho na ghar ke

 

Leave a comment

Your email address will not be published.