Dhalti Jaye Raat / ढलती जाए रात, कह ले दिल की बात Lyrics in Hindi

ढलती जाए रात, कह ले दिल की बात
शम्मा परवाने का न होगा फिर साथ

मस्त नज़ारें, चाँद सितारें, रात के मेहमाँ हैं ये सारे
उठ जाएगी शब की महफ़िल, नूर-ए-सहर के सुन के नक्कारे
हो ना हो दुबारा मुलाकात

नींद के बस में खोई खोई, कुल दुनिया है सोयी सोयी 
ऐसे में भी जाग रहा है, हम तुम जैसा कोई कोई
क्या हसीं है तारों की बारात

जो भी निगाहें चार है करता, उस पे जमाना वार है करता
राह-ए-वफ़ा का बन के राही, फिर भी तुम्हें दिल प्यार है करता
बैठा ना हो ले के कोई घात

#NirupaRoy #Jairaj

Dhalti Jaye Raat Lyrics

Dhalati jaae raat, kah le dil ki baat
Shamma parawaane ka n hoga fir saath

Mast najaaren, chaand sitaaren, raat ke mehamaan hain ye saare
Uthh jaaegi shab ki mahafil, nur-e-sahar ke sun ke nakkaare
Ho na ho dubaara mulaakaat

Nind ke bas men khoi khoi, kul duniya hai soyi soyi 
Aise men bhi jaag raha hai, ham tum jaisa koi koi
Kya hasin hai taaron ki baaraat

Jo bhi nigaahen chaar hai karata, us pe jamaana waar hai karata
Raah-e-wafa ka ban ke raahi, fir bhi tumhen dil pyaar hai karata
Baithha na ho le ke koi ghaat

 

Leave a comment

Your email address will not be published.