Dhire Dhire Machal Ae Dil-e-Beqaraar / धीरे धीरे मचल ऐ दिल-ए-बेकरार, कोई आता है Lyrics in Hindi

धीरे धीरे मचल ऐ दिल-ए-बेकरार, कोई आता है
यूँ तड़प के ना तड़पा मुझे बार बार, कोई आता है

उसके दामन की खुशबू हवाओं में है
उसके क़दमों की आहट फ़ज़ाओं में है
मुझको करने दे, करने दे सोलह सिंगार

मुझको छूने लगी उसकी परछाईयाँ
दिल के नज़दीक बजती हैं शहनाईयाँ
मेरे सपनों के आँगन में गाता है प्यार

रूठ के पहले जी भर सताऊँगी मैं
जब मनायेंगे वो, मान जाऊँगी मैं
दिल पे रहता है ऐसे में कब इख़्तियार

#Surekha #TarunBose
#PianoSongs

Dhire Dhire Machal Ae Dil-e-Beqaraar Lyrics

Dhire dhire machal ai dil-e-bekaraar, koi ata hai
Yun tadp ke na tadapa mujhe baar baar, koi ata hai

Usake daaman ki khushabu hawaaon men hai
Usake qadamon ki ahat fazaaon men hai
Mujhako karane de, karane de solah singaar

Mujhako chhune lagi usaki parachhaaiyaan
Dil ke nazadik bajati hain shahanaaiyaan
Mere sapanon ke angan men gaata hai pyaar

Ruthh ke pahale ji bhar sataaungi main
Jab manaayenge wo, maan jaaungi main
Dil pe rahata hai aise men kab ikhtiyaar

 

Leave a comment

Your email address will not be published.