Din Pareshan Hai / दिन परेशां है, रात भारी है Lyrics in Hindi

दिन परेशां है, रात भारी है
ज़िन्दगी है के फिर भी प्यारी है
क्या तमाशा है, कब से जारी है
ज़िन्दगी है के, फिर भी प्यारी है

इस कहानी को कौन रोकेगा
उम्र ये सारी कौन सोचेगा
साथ काटी है, या गुज़ारी है
ज़िन्दगी है के, फिर भी प्यारी है

रंगों से कहूँ, लकीरों से कहूँ
मैली-मैली सी तस्वीरों से कहूँ
बेक़रार सी, बेक़रारी है
ज़िन्दगी है के, फिर भी प्यारी है

Din Pareshan Hai Lyrics

Din pareshaan hai, raat bhaari hai
Jindagi hai ke fir bhi pyaari hai
Kya tamaasha hai, kab se jaari hai
Jindagi hai ke, fir bhi pyaari hai

Is kahaani ko kaun rokega
Umr ye saari kaun sochega
Saath kaati hai, ya gujaari hai
Jindagi hai ke, fir bhi pyaari hai

Rngon se kahun, lakiron se kahun
Maili-maili si taswiron se kahun
Bekraar si, bekraari hai
Jindagi hai ke, fir bhi pyaari hai

Leave a comment

Your email address will not be published.