Ek Hi Baat Zamane Ki Kitabon Mein Nahin / एक ही बात ज़माने की किताबों में नहीं Lyrics in Hindi

एक ही बात ज़माने की किताबों में नहीं 
जो ग़म-ए-दोस्त में नशा है, शराबों में नहीं 

हुस्न की भीख ना मांगेंगे, ना जलवों की कभी
हम फ़क़ीरों से मिलो खुल के हिजाबों में नहीं 

हर जगह फिरते हैं आवारा ख़यालों की तरह  
ये अलग बात है हम आपके ख़्वाबों में नहीं

ना डूबो साग़र-ओ-मीना में ये ग़म ऐ 'फ़ाकिर' 
के मक़ाम इनका दिलों में है शराबों में नहीं

Ek Hi Baat Zamane Ki Kitabon Mein Nahin Lyrics

Ek hi baat zamaane ki kitaabon men nahin 
Jo gam-e-dost men nasha hai, sharaabon men nahin 

Husn ki bhikh na maangenge, na jalawon ki kabhi
Ham faqiron se milo khul ke hijaabon men nahin 

Har jagah firate hain awaara khayaalon ki tarah  
Ye alag baat hai ham apake khwaabon men nahin

Na dubo saagar-o-mina men ye gam ai 'afaakira' 
Ke maqaam inaka dilon men hai sharaabon men nahin

Leave a comment

Your email address will not be published.