Ek Ladki Bheegi Bhagi Si / एक लडकी भीगी भागी सी, सोती रातों में जागी सी Lyrics in Hindi

एक लड़की भीगी भागी सी, सोती रातों में जागी सी
मिली एक अजनबी से, कोई आगे ना पीछे
तुम ही कहो ये कोई बात है

दिल ही दिल में जली जाती है
बिगड़ी बिगड़ी चली आती है
झुंझलाती हुई, बलखाती हुई
सावन की सुनी रात में

डगमग डगमग लहकी लहकी
भूली भटकी, बहकी बहकी
मचली मचली, घर से निकली
पगली सी काली रात में

तन भीगा है, सर गीला है
उसका कोई पेंच भी ढीला है
तनती झुकती, चलती रुकती
निकली अंधेरी रात में

#KishoreKumar #Madhubala #RainSong #BollywoodRainSong

Ek Ladki Bheegi Bhagi Si Lyrics

Ek ladki bhigi bhaagi si, soti raaton men jaagi si
Mili ek ajanabi se, koi age na pichhe
Tum hi kaho ye koi baat hai

Dil hi dil men jali jaati hai
Bigadi bigadi chali ati hai
Jhunjhalaati hui, balakhaati hui
Saawan ki suni raat men

Dagamag dagamag lahaki lahaki
Bhuli bhataki, bahaki bahaki
Machali machali, ghar se nikali
Pagali si kaali raat men

Tan bhiga hai, sar gila hai
Usaka koi pench bhi dhila hai
Tanati jhukati, chalati rukati
Nikali andheri raat men

   

Leave a comment

Your email address will not be published.