Hai Isi Mein Pyaar Ki Aabroo / है इसी में प्यार की आबरु Lyrics in Hindi

है इसी में प्यार की आबरू
वो जफ़ा करे, मैं वफ़ा करूँ
जो वफ़ा भी काम ना आ सके
तो वो ही कहे के मैं क्या करूँ

मुझे ग़म भी उन का अज़ीज है
कि उन्हीं की दी हुई चीज़ है
यही ग़म है अब मेरी ज़िन्दगी
इसे कैसे दिल से जुदा करूँ

जो ना बन सके मैं वो बात हूँ
जो ना ख़त्म हो मैं वो रात हूँ 
ये लिखा है मेरे नसीब में
यूँ ही शम्मा बन के जला करूँ

न किसी के दिल की हूँ आरजू
न किसी नज़र की हूँ जुस्तजू
मैं वो फूल हूँ जो उदास हो 
ना बहार आए तो क्या करूँ

#MalaSinha #Dharmendra

Hai Isi Mein Pyaar Ki Aabroo Lyrics

Hai isi men pyaar ki abaru
Wo jafa kare, main wafa karun
Jo wafa bhi kaam na a sake
To wo hi kahe ke main kya karun

Mujhe gam bhi un ka ajij hai
Ki unhin ki di hui chij hai
Yahi gam hai ab meri zindagi
Ise kaise dil se juda karun

Jo na ban sake main wo baat hun
Jo na khtm ho main wo raat hun 
Ye likha hai mere nasib men
Yun hi shamma ban ke jala karun

N kisi ke dil ki hun araju
N kisi najr ki hun justaju
Main wo ful hun jo udaas ho 
Na bahaar ae to kya karun

 

Leave a comment

Your email address will not be published.