Har Ghadi Khud Se Ulajhana Hai / हर घडी खुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा Lyrics in Hindi

हर घडी खुद से उलझना है मुक़द्दर मेरा 
मैं ही कश्ती हूँ मुझी में है समन्दर मेरा 

किससे पूछूँ कि कहाँ गुम हूँ कई बरसों से
हर जगह ढूँढ़ता फिरता है मुझे घर मेरा

एक से हो गये मौसम हों कि चेहरे सारे
मेरी आँखों से कहीं खो गया मंज़र मेरा

मुड़के देखूँ तो कहीं दूर तलक कोई नहीं 
कोई पीछा किये जाता है बराबर मेरा

Har Ghadi Khud Se Ulajhana Hai Lyrics

Har ghadi khud se ulajhana hai muqaddar mera 
Main hi kashti hun mujhi men hai samandar mera 

Kisase puchhun ki kahaan gum hun ki barason se
Har jagah dhunढ़ata firata hai mujhe ghar mera

Ek se ho gaye mausam hon ki chehare saare
Meri ankhon se kahin kho gaya mnzar mera

Mudake dekhun to kahin dur talak koi nahin 
Koi pichha kiye jaata hai baraabar mera

Leave a comment

Your email address will not be published.