Har Taraf Har Jagah Beshumar Aadmi / हर तरफ़ हर जगह बेशुमार आदमी Lyrics in Hindi

हर तरफ़ हर जगह बेशुमार आदमी 
फिर भी तनहाइयों का शिकार आदमी

सुबह से शाम तक बोझ ढोता हुआ 
अपनी ही लाश का ख़ुद मज़ार आदमी

हर तरफ़ भागते दौड़ते रास्ते 
हर तरफ़ आदमी का शिकार आदमी

रोज़ जीता हुआ रोज़ मरता हुआ
हर नये दिन नया इंतज़ार आदमी

ज़िन्दगी का मुकद्दर सफ़र दर सफ़र
आख़री साँस तक बेक़रार आदमी

Har Taraf Har Jagah Beshumar Aadmi Lyrics

Har taraf har jagah beshumaar adami 
Fir bhi tanahaaiyon ka shikaar adami

Subah se shaam tak bojh dhota hua 
Apani hi laash ka khud mazaar adami

Har taraf bhaagate daudate raaste 
Har taraf adami ka shikaar adami

Roz jita hua roz marata hua
Har naye din naya intazaar adami

Zindagi ka mukaddar safar dar safar
Akhari saans tak beqaraar adami

Leave a comment

Your email address will not be published.