Hathon Ki Chand Lakeeron Ka / हाथों की चंद लक़ीरों का Lyrics in Hindi

हाथों की चंद लक़ीरों का 
सब खेल है बस तकदीरों का 
तक़दीर है क्या मैं क्या जानूँ 
मैं आशिक़ हूँ तदबीरों का 

अपनी तक़दीर से कौन लड़े
पनघट पे प्यासे लोग खड़े
मुझको करने है काम बड़े
है शौक़ तुझे तक़रीरों का

मैं मालिक अपनी क़िस्मत का 
मैं बंदा अपनी हिम्मत का 
देखेंगे तमाशा दौलत का 
हम भेस बदल के फकीरों का 
देखेंगे खेल तक़दीरों का 

तक़दीर है क्या मैं क्या जानूँ 
मैं आशिक़ हूँ तदबीरों का

#DilipKumar #ShammiKapoor #SubhashGhai

Hathon Ki Chand Lakeeron Ka Lyrics

Haathon ki chnd laqiron ka 
Sab khel hai bas takadiron ka 
Taqadir hai kya main kya jaanun 
Main ashiq hun tadabiron ka 

Apani taqadir se kaun lade
Panaghat pe pyaase log khade
Mujhako karane hai kaam bade
Hai shauq tujhe taqariron ka

Main maalik apani qismat ka 
Main bnda apani himmat ka 
Dekhenge tamaasha daulat ka 
Ham bhes badal ke fakiron ka 
Dekhenge khel taqadiron ka 

Taqadir hai kya main kya jaanun 
Main ashiq hun tadabiron ka

  

Leave a comment

Your email address will not be published.