Hawa Guzar Gayi / हवा गुजर गयी पत्ते थे कुछ हिले भी नहीं Lyrics in Hindi

हवा गुजर गयी पत्ते थे कुछ हिले भी नहीं 
वो मेरे शहर में आये भी और मिले भी नहीं 

चराग जलते ही फिर शाम उधड़ने लगती है
जो इंतज़ार के लम्हें थे वो सिले भी नहीं 

ये कैसा रिश्ता हुआ इश्क में वफा का भला 
तमाम उम्र में दो चार छे गिले भी नहीं

Hawa Guzar Gayi Lyrics

Hawa gujar gayi patte the kuchh hile bhi nahin 
Wo mere shahar men aye bhi aur mile bhi nahin 

Charaag jalate hi fir shaam udhadne lagati hai
Jo intajaar ke lamhen the wo sile bhi nahin 

Ye kaisa rishta hua ishk men wafa ka bhala 
Tamaam umr men do chaar chhe gile bhi nahin

Leave a comment

Your email address will not be published.