Hazar Rahein Mud Ke Dekhi / हज़ार राहें मुड़ के देखी, कहीं से कोई सदा ना आई Lyrics in Hindi

हज़ार राहें मुड़ के देखीं
कहीं से कोई सदा ना आई 
बड़ी वफ़ा से निभाई तुमने
हमारी थोड़ी सी बेवफ़ाई

जहाँ से तुम मोड़ मुड़ गए थे
ये मोड़ अब भी वहीं पड़े हैं
हम अपने पैरों में जाने कितने 
भंवर लपेटे हुए खड़े हैं

कहीं किसी रोज़ यूँ भी होता
हमारी हालत तुम्हारी होती
जो रात हम ने गुज़ारी मर के
वो रात तुम ने गुज़ारी होती

तुम्हें ये ज़िद थी के हम बुलाते
हमें ये उम्मीद वो पुकारें
है नाम होठों पे अब भी लेकिन
आवाज़ में पड़ गई दरारें

#RajeshKhanna #ShabanaAzmi

Hazar Rahein Mud Ke Dekhi Lyrics

Hajaar raahen mud ke dekhin
Kahin se koi sada na ai 
Badi wafa se nibhaai tumane
Hamaari thodi si bewafaai

Jahaan se tum mod mud ge the
Ye mod ab bhi wahin pade hain
Ham apane pairon men jaane kitane 
Bhnwar lapete hue khade hain

Kahin kisi roz yun bhi hota
Hamaari haalat tumhaari hoti
Jo raat ham ne guzaari mar ke
Wo raat tum ne guzaari hoti

Tumhen ye jid thi ke ham bulaate
Hamen ye ummid wo pukaaren
Hai naam hothhon pe ab bhi lekin
Awaaj men pad gi daraaren

 
Umesh Gawade liked this

Leave a comment

Your email address will not be published.