Hum Jab Simat Ke Aap Ki / हम जब सिमट के आप की बाहों में आ गये Lyrics in Hindi

हम जब सिमट के आप की बाँहों में आ गए
लाखों हसीन ख़्वाब निगाहों में आ गए

खुशबू चमन को छोड़ के साँसों में घुल गई 
लहरा के अपने आप जवां जुल्फ़ खुल गई 
हम अपनी दिलपसंद पनाहों में आ गए

कह दी है दिल की बात नज़ारों के सामने
इकरार कर लिया है बहारों के सामने
दोनों जहां आज गवाहों में आ गए

मस्ती भरी घटाओं की परछाईयों तले
हाथों में हाथ थाम के जब साथ हम चलें
शाखों से फूल टूट के राहों में आ गए

#SunilDutt #Sadhana #YashChopra

Hum Jab Simat Ke Aap Ki Lyrics

Ham jab simat ke ap ki baanhon men a ge
Laakhon hasin khwaab nigaahon men a ge

Khushabu chaman ko chhod ke saanson men ghul gi 
Lahara ke apane ap jawaan julf khul gi 
Ham apani dilapasnd panaahon men a ge

Kah di hai dil ki baat nazaaron ke saamane
Ikaraar kar liya hai bahaaron ke saamane
Donon jahaan aj gawaahon men a ge

Masti bhari ghataaon ki parachhaaiyon tale
Haathon men haath thaam ke jab saath ham chalen
Shaakhon se ful tut ke raahon men a ge

  

Leave a comment

Your email address will not be published.