Insaniyat Hee Sabse Pehla / इन्सानियत ही सब से पहला धर्म है इन्सान का Lyrics in Hindi

इन्सानियत ही सब से पहला धर्म है इन्सान का 
इसके बाद ही पन्ना खोलो गीता और कुरान का 

कौन सा ग्रंथ ये कहता है ये तेरा है ये मेरा है 
सब ही संत कहे ये दुनिया चार दिनों का डेरा है 
यही चार दिन जियो प्यार से क्यों ख़तरा हो जान का 

प्यार ही है इन्सान का मजहब हर भाषा का मतलब प्यार 
राम रहीम ईसा और नानक प्यार की बीना के हैं तार 
धर्म के नाम पे झगड़ा करना काम है ये शैतान का 

जागो वर्ना दुनिया का गुलशन वीराना हो जाएगा 
मौत की नींद में हर एक इन्सां बेमतलब सो जाएगा 
कुछ न रहेगा कुछ न बचेगा इतने बड़े जहान का

Insaniyat Hee Sabse Pehla Lyrics

Insaaniyat hi sab se pahala dharm hai insaan ka 
Isake baad hi panna kholo gita aur kuraan ka 

Kaun sa grnth ye kahata hai ye tera hai ye mera hai 
Sab hi snt kahe ye duniya chaar dinon ka dera hai 
Yahi chaar din jiyo pyaar se kyon khatara ho jaan ka 

Pyaar hi hai insaan ka majahab har bhaasha ka matalab pyaar 
Raam rahim isa aur naanak pyaar ki bina ke hain taar 
Dharm ke naam pe jhagada karana kaam hai ye shaitaan ka 

Jaago warna duniya ka gulashan wiraana ho jaaega 
Maut ki nind men har ek insaan bematalab so jaaega 
Kuchh n rahega kuchh n bachega itane bade jahaan ka

Leave a comment

Your email address will not be published.