Intezar Aur Abhi / इंतज़ार और अभी, और अभी, और अभी Lyrics in Hindi

जब मैं कहती हूँ किस रोज़ हुज़ूर आएँगे 
दिल ये कहता है कि एक दिन तो ज़रूर आएँगे
इंतज़ार और अभी, और अभी, और अभी

साँझ की लाली सुलग-सुलगकर बन गई काली धूल 
आए न बालम बेदर्दी मैं चुनती रह गई फूल 
इंतज़ार और अभी, और अभी, और अभी

रैन भई, बोझल अँखियन में चुभने लागे तारे 
देस मैं परदेसन हो गई जब से पिया सिधारे 
इंतज़ार और अभी, और अभी, और अभी

भोर भई पर कोई न आया, सूनी सेज बसाने 
तारे डूबे, दीपक बुझ गए, राख हुए परवाने 
इंतज़ार और अभी, और अभी, और अभी

#Nimmi

Intezar Aur Abhi Lyrics

Jab main kahati hun kis roz huzur aenge 
Dil ye kahata hai ki ek din to zarur aenge
Intazaar aur abhi, aur abhi, aur abhi

Saanjh ki laali sulag-sulagakar ban gi kaali dhul 
Ae n baalam bedardi main chunati rah gi ful 
Intazaar aur abhi, aur abhi, aur abhi

Rain bhi, bojhal ankhiyan men chubhane laage taare 
Des main paradesan ho gi jab se piya sidhaare 
Intazaar aur abhi, aur abhi, aur abhi

Bhor bhi par koi n aya, suni sej basaane 
Taare dube, dipak bujh ge, raakh hue parawaane 
Intazaar aur abhi, aur abhi, aur abhi

Leave a comment

Your email address will not be published.