Ishq Insaan Ki Zaroorat Hai / इश्क़ इन्सान की ज़रूरत है Lyrics in Hindi

तुम ना मानो मगर हक़ीक़त है 
इश्क़ इन्सान की ज़रूरत है 

हुस्न ही हुस्न, जलवे ही जलवे 
सिर्फ़ एहसास की ज़रूरत है

उसकी महफ़िल में बैठकर देखो 
ज़िन्दगी कितनी ख़ूबसूरत है

जी रहा हूँ इस एतिमाद के साथ 
ज़िन्दगी को मेरी ज़रूरत है

#Ghazal

Ishq Insaan Ki Zaroorat Hai Lyrics

Tum na maano magar haqiqat hai 
Ishq insaan ki zarurat hai 

Husn hi husn, jalawe hi jalawe 
Sirf ehasaas ki zarurat hai

Usaki mahafil men baithhakar dekho 
Zindagi kitani khubasurat hai

Ji raha hun is etimaad ke saath 
Zindagi ko meri zarurat hai

Leave a comment

Your email address will not be published.