Jaaye To Jaaye Kahan (Talat) / जाएँ तो जाएँ कहाँ, समझेगा कौन यहाँ Lyrics in Hindi

जाएँ तो जाएँ कहाँ, समझेगा कौन यहाँ
दर्द भरे दिल की जुबां

मायूसिओं का मजमा है जी में
क्या रह गया है इस जिन्दगी में
रूह में ग़म, दिल में धुआँ 

उन का भी ग़म है, अपना भी ग़म है
अब दिल के बचने की उम्मीद कम है
एक कश्ती, सौ तूफ़ाँ

#DevAnand #ChetanAnand

Jaaye To Jaaye Kahan (Talat) Lyrics

Jaaen to jaaen kahaan, samajhega kaun yahaan
Dard bhare dil ki jubaan

Maayusion ka majama hai ji men
Kya rah gaya hai is jindagi men
Ruh men gam, dil men dhuan 

Un ka bhi gam hai, apana bhi gam hai
Ab dil ke bachane ki ummid kam hai
Ek kashti, sau tufaan

 

Leave a comment

Your email address will not be published.