Jab Chhaye Kabhi Sawan Ki Ghata / जब छाए कभी सावन की घटा, रो रो के ना करना याद मुझे Lyrics in Hindi

जब छाए कभी सावन की घटा
रो रो के न करना याद मुझे 
ऐ जान-ए-तमन्ना गम तेरा
कर दे ना कही बरबाद मुझे 

जो मस्त बहारें आई थी
वो रूठ गई उस गुलशन से
जिस गुलशन में दो दिन के लिए
किस्मत ने किया आबाद मुझे 

वो राही हूँ पलभर के लिए
जो जुल्फ के सायें में ठहरा 
अब लेके चली है दूर कहीं
ऐ इश्क तेरी बेदाद मुझे 

ऐ याद-ए-सनम अब लौट भी जा
क्यों आ गई तू समझाने को 
मुझको मेरा गम काफ़ी है
तू और न कर नाशाद मुझे 

#ManojKumar #Shakila

Jab Chhaye Kabhi Sawan Ki Ghata Lyrics

Jab chhaae kabhi saawan ki ghata
Ro ro ke n karana yaad mujhe 
Ai jaan-e-tamanna gam tera
Kar de na kahi barabaad mujhe 

Jo mast bahaaren ai thi
Wo ruthh gi us gulashan se
Jis gulashan men do din ke lie
Kismat ne kiya abaad mujhe 

Wo raahi hun palabhar ke lie
Jo julf ke saayen men thhahara 
Ab leke chali hai dur kahin
Ai ishk teri bedaad mujhe 

Ai yaad-e-sanam ab laut bhi ja
Kyon a gi tu samajhaane ko 
Mujhako mera gam kaafi hai
Tu aur n kar naashaad mujhe 

 

Leave a comment

Your email address will not be published.