Jab Raat Ki Tanhai / जब रात की तनहाई दिल बन के धड़कती है Lyrics in Hindi

जब रात की तनहाई दिल बन के धड़कती है 
यादों के दरीचे में चिलमन सी सरकती है

यूँ प्यार नहीं छुपता पलकों के झुकाने से 
आँखों के लिफ़ाफों में तहरीर चमकती है

खुश रंग परिन्दों के लौट आने के दिन आए 
बिछड़े हुए मिलते हैं जब बर्फ़ पिघलती है 

शोहरत की बुलन्दी भी पल भर का तमाशा है
जिस डाल पे बैठे हो वो टूट भी सकती है

Jab Raat Ki Tanhai Lyrics

Jab raat ki tanahaai dil ban ke dhadakati hai 
Yaadon ke dariche men chilaman si sarakati hai

Yun pyaar nahin chhupata palakon ke jhukaane se 
Ankhon ke lifaafon men taharir chamakati hai

Khush rng parindon ke laut ane ke din ae 
Bichhade hue milate hain jab barf pighalati hai 

Shoharat ki bulandi bhi pal bhar ka tamaasha hai
Jis daal pe baithhe ho wo tut bhi sakati hai

Leave a comment

Your email address will not be published.