Jagega Insaan Zamana Dekhega / जागेगा इन्सान ज़माना देखेगा Lyrics in Hindi

जागेगा इन्सान ज़माना देखेगा 
उठेगा तूफ़ान ज़माना देखेगा 

बहता चलेगा मीलों नहरों का पानी 
झूमेगी खेती जैसे झूमे जवानी 
चमकेगा देश हमारा मेरे साथी रे
आँखों में कल का नज़ारा मेरे साथी रे 
नवयुग का वरदान ज़माना देखेगा 

फिरते थे मुल्कों मुल्कों झोली पसारे
अब से जिएँगे हम भी अपने सहारे
चमकेगा देश हमारा मेरे साथी रे
आँखों में कल का नज़ारा मेरे साथी रे 
भरे हुए खलियान ज़माना देखेगा 

फूटेगा मोती बनके अपना पसीना 
दुनिया की क़ौमें हमसे सीखेंगी जीना
चमकेगा देश हमारा मेरे साथी रे
आँखों में कल का नज़ारा मेरे साथी रे 
कल का हिंदुस्तान ज़माना देखेगा

#Dharmendra #Mumtaz #FerozKhan #YashChopra

Jagega Insaan Zamana Dekhega Lyrics

Jaagega insaan zamaana dekhega 
Uthhega tufaan zamaana dekhega 

Bahata chalega milon naharon ka paani 
Jhumegi kheti jaise jhume jawaani 
Chamakega desh hamaara mere saathi re
Ankhon men kal ka nazaara mere saathi re 
Nawayug ka waradaan zamaana dekhega 

Firate the mulkon mulkon jholi pasaare
Ab se jienge ham bhi apane sahaare
Chamakega desh hamaara mere saathi re
Ankhon men kal ka nazaara mere saathi re 
Bhare hue khaliyaan zamaana dekhega 

Futega moti banake apana pasina 
Duniya ki qaumen hamase sikhengi jina
Chamakega desh hamaara mere saathi re
Ankhon men kal ka nazaara mere saathi re 
Kal ka hindustaan zamaana dekhega

   

Leave a comment

Your email address will not be published.