Jhukti Ghata Gaati Hawa / झुकती घटा गाती हवा सपने जगाए Lyrics in Hindi

झुकती घटा गाती हवा सपने जगाए
नन्हा सा दिल मेरा मचल-मचल जाए

महके हुए, बहके हुए, मस्त नज़ारे
निखरे हुए, बिखरे हुए, रंग के धारे
आज गगन हो के मगन हम को बुलाए

रवां है छोटी सी कश्ती हवाओं के रुख़ पर
नदी के साज़ पे मल्लाह गीत गाता है
तुम्हारा जिस्म हर एक लहर के झकोले से
मेरी शरीर निगाहों में झूल जाता है

जिस्म मेरा जां भी मेरी तेरे लिए है
प्यार भारी दुनिया सजी तेरे लिए है
आँखों पे हैं छाए तेरे जलवों के साये 

#RajendraKumar #Nanda

Jhukti Ghata Gaati Hawa Lyrics

Jhukati ghata gaati hawa sapane jagaae
Nanha sa dil mera machal-machal jaae

Mahake hue, bahake hue, mast najaare
Nikhare hue, bikhare hue, rng ke dhaare
Aj gagan ho ke magan ham ko bulaae

Rawaan hai chhoti si kashti hawaaon ke rukh par
Nadi ke saaj pe mallaah git gaata hai
Tumhaara jism har ek lahar ke jhakole se
Meri sharir nigaahon men jhul jaata hai

Jism mera jaan bhi meri tere lie hai
Pyaar bhaari duniya saji tere lie hai
Ankhon pe hain chhaae tere jalawon ke saaye 

 

Leave a comment

Your email address will not be published.