Jind Le Gaya Woh Dil Ka Jani / जींद ले गया वो दिल का जानी Lyrics in Hindi

जींद ले गया वो दिल का जानी 
ये बुत बेजान रह गया
मेहमान चला गया घर से 
ये खाली मकान रह गया 

ख़्वाबों से तक़दीरें कब बनती हैं
पानी पे तस्वीरें कब बनती हैं 
ना रंग रहा कोई बाकी
न कोई निशान रह गया

उस आँधी का उस तूफाँ का ज़ोर किसी को याद नहीं है 
आई थी एक रोज़ क़यामत और किसी को याद नहीं है 
बस एक मेरा दिल टूटा ये सारा जहान रह गया 

अपने ज़ख़्मों अपने सदमों से मैं कितनी शर्मिंदा हूँ 
क्या कारण है क्या है सबब जो आज भी अब भी मैं ज़िंदा हूँ 
लगता है के मेरा बाकी कोई इम्तिहान रह गया

#SmitaPatil

Jind Le Gaya Woh Dil Ka Jani Lyrics

Jind le gaya wo dil ka jaani 
Ye but bejaan rah gaya
Mehamaan chala gaya ghar se 
Ye khaali makaan rah gaya 

Khwaabon se taqadiren kab banati hain
Paani pe taswiren kab banati hain 
Na rng raha koi baaki
N koi nishaan rah gaya

Us andhi ka us tufaan ka zor kisi ko yaad nahin hai 
Ai thi ek roz qayaamat aur kisi ko yaad nahin hai 
Bas ek mera dil tuta ye saara jahaan rah gaya 

Apane zakhmon apane sadamon se main kitani sharminda hun 
Kya kaaran hai kya hai sabab jo aj bhi ab bhi main zinda hun 
Lagata hai ke mera baaki koi imtihaan rah gaya

Leave a comment

Your email address will not be published.