Jis Raat Ke Khwab Aaye / जिस रात के ख़्वाब आए Lyrics in Hindi

जिस रात के ख़्वाब आए 
वो ख़्वाबों के रात आई 
शर्माके झुकी नज़रें 
होंठों पे वो बात आई 

पैग़ाम बहारों का आखिर मेरे नाम आया
फूलों ने दुआएँ दी तारों का सलाम आया 
आप आए तो महफ़िल में नग्मों की बारात आई 

ये महकी हुई ज़ुल्फ़े, ये बहकी हुई साँसें
नींदों को चुरा लेंगी ये नींद भरी आँखें
तक़दीर मेरी जागी, जन्नत मेरे हाथ आई 

चेहरे पे तबस्सुम ने एक नूर सा छलकाया
क्या काम चिरागों का जब चाँद निकल आया 
लो आजा दुल्हन बन के पहलू में हयात आई

Jis Raat Ke Khwab Aaye Lyrics

Jis raat ke khwaab ae 
Wo khwaabon ke raat ai 
Sharmaake jhuki nazaren 
Honthhon pe wo baat ai 

Paigaam bahaaron ka akhir mere naam aya
Fulon ne duaen di taaron ka salaam aya 
Ap ae to mahafil men nagmon ki baaraat ai 

Ye mahaki hui zulfe, ye bahaki hui saansen
Nindon ko chura lengi ye nind bhari ankhen
Taqadir meri jaagi, jannat mere haath ai 

Chehare pe tabassum ne ek nur sa chhalakaaya
Kya kaam chiraagon ka jab chaand nikal aya 
Lo aja dulhan ban ke pahalu men hayaat ai

Leave a comment

Your email address will not be published.